Follow by Email

Thursday, 28 November 2013

रहे हजारों वर्ष, सचिन पीपल सा दीखे-

(भावानुवाद )
दीखे पीपल पात सा, भारत रत्न महान |
त्याग-तपस्या ध्यान से, करे लोक कल्याण |

करे लोक कल्याण, निभाना हरदम होता |
विज्ञापन-व्यवसाय, मगर मर्यादा खोता |

थापित कर आदर्श, सकल जन गण मन सीखे |
रहे हजारों वर्ष, सचिन पीपल सा दीखे ||

7 comments:

  1. रत्न कोई भी हो सकता है
    परिभाषा है उसकी !

    ReplyDelete
  2. सचिन जैसे खिलाड़ी कभी कभी ही होते हैं..

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल शनिवार (30-11-2013) "सहमा-सहमा हर इक चेहरा" “चर्चामंच : चर्चा अंक - 1447” पर होगी.
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है.
    सादर...!

    ReplyDelete
  4. बढियां है इन पीपल की सार्थकता तभी है जब वह जीवन रुपी वायु से प्राणों को भर दे , सचिन से भी यही उम्मीद करनी चाहिए ..

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर...

    ReplyDelete