Follow by Email

Wednesday, 20 March 2013

सम-लैंगिकता खुश हुई, बोले जय सरकार -


(ब्वायज-मेस की चर्चा पर आधारित )

लड़के भूले नैनसुख, प्रेम-धर्म तकरार। 

सम-लैंगिकता खुश हुई, बोले जय सरकार । 
 

  बोले जय सरकार, चले वो गली छोड़ के । 

अफ़साना नाकाम,  मजे में मोड़ मोड़ के । 


जमानती नहिं जुल्म, व्यर्थ झंझट में पड़के । 

हवालात की बात, गए घबरा से लड़के ॥ 

3 comments:

  1. जमानती अपराध, व्यर्थ झन्झट में पड़के ।
    जीवन करें खराब, चाहते अब नहिं लड़के ॥
    ...कटु सच्चाई से अवगत कराया आपने..बधाई!

    ReplyDelete