Follow by Email

Friday, 28 September 2012

सीख रहा हूँ-


चलो उधर अब चल दो ।
रस्ता जरा  बदल दो ।।

 दुनिया के मसलों का 
हिन्दुस्तानी हल दो ।।

 होली होने को हो ली 
रंग तो फिर भी मल दो ।

 दिखला दी बत्तीसी 
दाढ़ तो अक्कल दो ।।

पित्तर भूखा प्यासा 
थोडा-थोडा जल दो ।।

नाचें जो  वैशाखी-
इतना अब संबल दो ।।

जप-तप कौन करेगा 
हमको सीधा फल दो।।  

सदियां दुःख में बीतीं
एक ख़ुशी का पल दो।

11 comments:

  1. दुनिया के मसलों का
    हिन्दुस्तानी हल दो ।।

    कोई हल नहीं मिलने वाला .... खुशी भी स्वयं ही पानी होगी ... कोई नहीं देने वाला ।

    बढ़िया रचना

    ReplyDelete
  2. शानदार पोस्ट है ,आपके साथ हम भी प्रयासरत हैं |

    ReplyDelete
  3. बहुत अच्छी प्रस्तुति!
    इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार (29-09-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  4. वाह! बेहतरीन! लाज़वाब!

    रोज दूसरों के ब्लॉग में ढेरों कमेंट लिखते-लिखते कहीं आपकी यह सुंदर पहचान गुम तो नहीं हो रही!

    ReplyDelete
  5. देवेन्द्र पांडे जी ने मेरे मुंह की बात छीन ली .छोटी बहर की

    महा गज़ल है यह

    दुनिया के मसलों का
    हिन्दुस्तानी हल दो ।।

    ReplyDelete
  6. हिन्दुस्तानी मन को ,

    भारत का ही मन दो ,

    हिन्दुस्तानी वर दो

    हिन्दुस्तानी बल दो

    ReplyDelete
  7. अब उनको मत छलने दो ,

    अपनों की चलने दो .

    ReplyDelete
  8. दुनिया के मसलों का
    हिन्दुस्तानी हल दो ।।

    फेल हो जाना है मतलब !

    ReplyDelete
  9. waah...sidhi bat...binalaglpet ke...

    ReplyDelete
  10. जप-तप कौन करेगा
    हमको सीधा फल दो।।
    अच्छी लगी ये बेबाकी | सुंदर प्रस्तुति |
    इस समूहिक ब्लॉग में पधारें और इस से जुड़ें |
    काव्य का संसार

    ReplyDelete